Monday, 21 January 2013

तस्वीर का रुख बदल जाएगा

तीज पूजी
अहोई आठे
चौथ पूजी
छठ पूजी
मजबूत कलाईओं  को पकड़
रक्षा का सूत्र बाँधा
तिलक किया
लम्बी उम्र की कामना में
कभी बरगद
तो कभी पीपल
के फेरे लिए
मांग मांगी
कोख मांगी
पुत्र और भरतार माँगा
ताप माँगा
ओज माँगा
युद्ध में
रण में
विजय में
तेज माँगा
खुद जली
ब्रह्माण्ड सारा
रख कर डाला
सोचते हैं
हम कहा पर थे सही
और हमारी
कहाँ पर हैं
गलतियां
अब हमें ये
जीर्ण शीर्ण
विदीर्ण
तस्वीर बदलनी होगी
थाम कर
नाज़ुक कलाई को
बाँध दो अब
सूत्र रक्षा के नए
गढ़ेंगे हम
व्रत नए
अनुष्ठान नए
हंसी माँगे
ख़ुशी माँगे
भाव माँगें
दया माँगें
प्रेम माँगें
सरलता की
तरलता की
धैर्य की प्रतिमूर्ति-
बेटियां माँगें दुआ में
देखना फिर एक दिन
तस्वीर का रुख बदल जाएगा

No comments:

Post a Comment