Monday, 22 April 2013

चाँद और रोटी

पिछली पूरनमासी पर जब तुम्हारा पोर पोर
डूबा हुआ था चाँद से टपकते शहद मैं
तो मैं अपनी कविता में बो रही थी रोटियाँ
खेतों मैं गेंहू बोने सा
बालियों में रस पड़ने सा
या खेतों में पक कर सुनहरी धूप के फैलने सा

क्यूंकि चादं से टपकता शहद एक चीख बन कर मेरे
कानो में घुला था
भूखों !यूँ मत देखो मुझे मैं रोटी नहीं हूँ

जबकि मैं जानती हूँ की कवितायें नहीं भरती पेट
कविता लिखने वालों का भी

जब तुम गा रहे थे झील बादल ओस !
तो मैं भटक रही होती हूँ तीजन के साथ
सर पर पानी का मटका लिए
पत्थरों के जंगल मैं
तुम्हारे ख्यालों की झील से से १० कोस दूर

क्यूंकि मैं ये भी जानती हूँ की ओस चाटने से प्यास नहीं बुझती

तुम चलो ना !
रास्ते के दायीं तरफ और
मैं चलती हूँ बायीं तरफ
फिर भी हम होंगे साथ साथ
सामानांतर और
शायद अलग अलग भी 
                                                       -मृदुला शुक्ला 

No comments:

Post a Comment